Connect with us

Hi, what are you looking for?

Rail Hunt

देश-दुनिया

टाटानगर : चलाने पर न चली लिफ्ट, खराब मिला शौचालय का एग्जॉस्ट

सीसीएम के लिया जनसुविधाओं का लिया जायजा, बिना कुछ कहे व्यवस्था पर उठा गये गंभीर सवाल

 

बारिश में स्टेशन परिसर का जायजा लेते सीसीएम व सीनियर डीसीएम

जमशेदपुर. टाटानगर का निरीक्षण करने गुरुवार 26 जुलाई को यहां पहुंचे दक्षिण पूर्व रेलवे के प्रिंसिपल मुख्य वाणिज्य प्रबंधक प्रशांत कुमार साहु ने बिना कुछ कहे स्टेशन की व्यवस्था पर कई सवाल खड़ा कर दिये. सीसीएम ने निरीक्षण के दौरान यात्री सुविधाओं की जमीनी हकीकत पर गौर किया और उनके हर सवाल पर अधिकारी इधर-उधर झांकते नजर आये. स्टेशन पर लगायी गयी नयी लिफ्ट का संचालन देखने की इच्छा सीसीएम ने जतायी तो लिफ्ट नहीं चली. हास्यापद रूप से सीसीसीएम के निरीक्षण के दौरान स्केलेटर बंद था तो उसकी चॉबी मौके पर मौजूद नहीं थी. पूछने पर पता चला कि इसके लिए एक साल बाद भी कोई सिस्टम ही नहीं बनाया गया है. शौचालय में दुर्गंध पर सीसीएम ने सवाल उठाया तो पता चला कि यहां लगाया गया एग्जॉस्ट कई दिनों से खराब पड़ा है. स्टेशन पर सीसीएम के निरीक्षण के दौरान स्वान लगातार घूमता रहा.

स्टेशन के फल स्टॉल पर अमावट और खजूर सादे प्लास्टिक में पैक कर बेचा जा रहा था, सीसीएम ने कंपनी का ब्रांड नहीं होने पर सवाल उठाया तो अधिकारी मौन हो गये. स्टेशन से निकलने वाले कचरे को फेंकने का मुद्दा सीसीएम ने उठाया तो पता चला कि उसके निष्तारण की कोई मुकम्मल व्यवस्था नहीं है अलबत्ता रिक्शा ट्राली पर लोड कर कचरे को स्टेशन से डेढ़ किमी दूर फेंक दिया जाता है. सीसीएम के सामने यह जबाव देने वाले अधिकारी भूल गये गये संपूर्ण स्वच्छता अभियान का मूल सिद्धांत क्या  है.

टिकट निरीक्षकों की समस्याओं को सुनते सीसीएम पीके साहू

सीसीएम के निरीक्षण में एक बात को साफ नजर आया कि टाटानगर स्टेशन पर मॉनिटरिंग के नाम पर जिम्मेवार  अधिकारी सिर्फ खानापूरी कर रहे है ओर उन्हें उपलब्ध सुविधाओं में कमियों व गड़बड़ी की जानकारी तक नहीं है. अगर जानकारी है तो फिर अधिकारियों ने उन्हें दूर करने के लिए सही स्तर पर प्रयास नहीं किया अथवा उन्हें उनके हाल पर छोड़ दिया गया है. इसका खुलासा लिफ्ट व स्केलेटर की स्थिति व उनकी संचालन की व्यवस्था को लेकर सीसीएम की टिप्पणी से सामने आया. खान-पान की सेवा को लेकर बीते दो माह से चल रही जोरदार कवायद का हस्र अमावट व खजूर की पैकिंग व ब्रांड पर सीसीएम के उठाये गये सवाल से सामने आ गया. टाटानगर स्टेशन पर यह स्थिति तब थी जब सीसीएम का दौरान पूर्व निर्धारित था.

इसके अलावा सीसीएम ने टाटानगर स्टेशन के अलावा माल गोदाम, बर्मामाइंस सेकेंड गेट, स्टेशन पार्किंग में सीसीटीवी कक्ष, बोतल क्रसिंग मशीन, आरक्षित एवं करंट टिकट केंद्र, पूछताछ केंद्र व पोर्टिको स्थित पेशाबघर तक की जांच की. सीसीएम ने काउंटर पर तैनात कर्मचारियों की डयूटी आने के समय ओर उस समय तक के सेल की भी जानकारी ली. निरीक्षण के बाद सीसीएम ने टिकट निरीक्षक, सफाईकर्मी व दूसरे कर्मचारियों से बात कर उन्हें जमीनी हकीकत बतायी और आपसी समन्वय बनाकर बेहतर रिजल्ट देने के लिए प्रेरित किया.

भास्कर की नजर में सीसीएम का टाटानगर दौरा

खबर पर आपकी टिप्पणी का स्वागत है,  6202266708 वाट्सअप नंबर पर अपनी राय दें 

Spread the love

Latest

You May Also Like

रेलवे यूनियन

इंडियन रेलवे सिग्नल एंड टेलीकॉम मैन्टेनर्स यूनियन ने तेज किया अभियान, रेलवे बोर्ड में पदाधिकारियों से की चर्चा  नई दिल्ली. सिग्नल और दूरसंचार विभाग के...

रेलवे यूनियन

नडियाद में IRSTMU और AIRF के संयुक्त अधिवेशन में सिग्नल एवं दूर संचार कर्मचारियों के हितों पर हुआ मंथन IRSTMU ने कर्मचारियों की कठिन...

रेलवे यूनियन

IRSTMU – AIRF  के संयुक्त अधिवेशन में WREU के महासचिव ने पुरानी पेंशन योजना लागू करने की वकालत की  नडियाद के सभागार में पांचवी...

न्यूज हंट

KOTA. मोबाइल के उपयोग को संरक्षा के लिए बड़ा खतरा मान रहे रेल प्रशासन लगातार रनिंग कर्मचारियों पर सख्ती बरतने लगा है. रेल प्रशासन...