Connect with us

Hi, what are you looking for?

Rail Hunt

गपशप

टाटानगर में साहब की कमाई पर लगी किसकी नजर…, नीचे से ऊपर तक दिख रही बेचैनी

टाटानगर में साहब की कमाई पर लगी किसकी नजर..., नीचे से ऊपर तक दिख रही बेचैनी
टाटानगर स्टेशन के आउटगेट पर लगा स्टॉल और जाम

टाटानगर रेलवे स्टेशन पर सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था. सभी मजे में जी-खा रहे थे. आपसी मेलजोल ऐसा की फेविकाेल का मजबूत गठजोड़ भी शरम से पानी-पानी हो जाये. स्टेशन के बाहर दुकानदार से लेकर टेंपाे वाले सी मस्त थे. स्टेशन पर खाकी वर्दी का कानून इतना प्रभावशाली था कि किसी को किसी से डरने की जरूरत नहीं. भयमुक्त वातावरण में स्टेशन के आउटगेट पर टेंपो खड़ी कर चालक बाहर से आने वाले यात्रियों की सेवा में तत्पर रहते थे. बाहर फुटपाथ पर दुकानें आबाद थी. एक-दूसरे का ध्यान रखकर पूरी ईमानदारी से काम चल रहा था.

टाटानगर में साहब की कमाई पर लगी किसकी नजर..., नीचे से ऊपर तक दिख रही बेचैनी

टाटानगर स्टेशन के आउटगेट पर लगा टेंपो स्टैंड, पूर्व की हाल

21 दिसंबर 2022 की शाम को अचानक सादे लिबास में आये वर्दी वाले एक साहब नाराज हो गये. नाराजगी का कारण तो पता नहीं चल सका लेकिन उनके गुस्से से स्टेशन के बाहर का अर्थतंत्र ही डगमगा गया. पहले रेलवे पार्किंग में लगी दो दुकानों को हटा दिया गया. दो दुकानदारों की कमाई बंद हुई तो इसका असर ऊपर तक पड़ा. असर और आक्रोश की चिंगारी में नीचे के स्टेशन की और दुकानें भी आ गयी. शाम तक अभियान चलाकर एक दर्जन से अधिक दुकानों को हटा दिया गया. एक ही झटके में गरीब बेरोजगार हाे गये तो हर दिन की कमाई का औसत भी नीचे गिर गया.

टाटानगर में साहब की कमाई पर लगी किसकी नजर..., नीचे से ऊपर तक दिख रही बेचैनी

टाटानगर स्टेशन के आउटगेट से हटाया गया टेंपो स्टैंड, वर्तमान का हाल

अब इसमें बताने वाली बात नहीं है कि इन दुकानों से कई गरीब आश्रित थे. इन गरीबों में दुकानदारों से लेकर वर्दी वाले साहब और स्टेशन पर सफेद चमकदार ड्रेस वालों की उम्मीद भी हर माह टिकी होती है. यहां चलने वाला अर्थतंत्र मुंशी प्रेमचंद्र के “मासिक आय तो पूर्णमासी का चांद होता” है कि कहावत को इस युग में सार्थक बनाता है. हर किसी की उम्मीद की गाड़ी बेइमानी से चलने वाले इन दुकानदारों की मेहनत पर टिकी है. हालांकि वर्दी वाले साहब के पास तो कई विकल्प भी मौजूद हैं क्योंकि स्टेशन से लेकर ट्रेनों में डेली हॉकर तो चल ही रहे हैं. एक बंद हुआ तो आय के दूसरे स्रोत पर नजर कस गयी है. कल तक नहीं दिखने वाले अवैध हॉकर अब साहब को स्टेशन पर नजर आने लगे हैं. चुन-चुनकर धरपकड़ शुरू हो गयी. खबर है कि दुकानदारों पर भी साहब की मेहरबानी बरसने वाली है, दुकानें लगाने की हरी झंडी दे दी गयी है.. धन्य हो व्यवस्था…

क्रमश : 

Spread the love

Latest

You May Also Like

रेलवे न्यूज

DDU. गया में पदस्थापित एक सीनियर सेक्शन इंजीनियर पर महिला कर्मचारी ने यौन प्रताड़ना का आरोप लगाया है. इस मामले में विभागीय जांच चल...

रेलवे यूनियन

IRSTMU अध्यक्ष ने PCSTE श्री शांतिराम को दी जन्मदिन बधाई व नव वर्ष की शुभकामनाएं  IRSTMU के राष्ट्रीय अध्यक्ष नवीन कुमार की अगुवाई में...

न्यूज हंट

MUMBAI. रेलवे में सेफ्टी को लेकर जारी जद्दोजहद के बीच मुंबई मंडल (WR) के भायंदर स्टेशन पर 22 जनवरी 2024 की रात 20:55 बजे...

मीडिया

RRB Bharti New. रेलवे भर्ती बोर्ड (RRB) एएलपी के लिए 5 हजार से ज्यादा पदों पर भर्तियां लेने जा रहा है. भर्ती में पदों की...