खुला मंच गपशप ताजा खबरें न्यूज हंट सिटीजन जर्नलिस्ट

हर ट्रेन की यही कहानी , टूटे फ्लश – बेसिन में पानी !!

तारकेश कुमार ओझा , खड़गपुर

हम भारतीयों की किस्मत में ही शायद सही – सलामत यात्रा का योग ही नहीं लिखा है . किसी सफर में सब कुछ सामान्य नजर आए तो हैरानी होती है . कोरोना काल में उत्तर प्रदेश की मेरी वापसी यात्रा का अनुभव कुछ ऐसा ही रहा . कई मामलों में नए अनुभव के बावजूद चिर – परिचित असुविधा़ओं के कायम नजर आने से मुझे यही लगा कि अपने देश में ” हर ट्रेन की यही कहानी , टूटे फ्लश – बेसिन में पानी ” वाली सूरत जल्द बदलने वाली नहीं .

प्रतापगढ़ से हिजली तक की अपनी यात्रा शुरू करने जब मैं स्टेशन पहुंचा तब स्टेशन के सारे प्लेटफार्म सूने नजर आ रहे था . ज्यादा भीड़भाड़ नहीं थी , अलबत्ता कुछ बंदर धमाचौकड़ी मचाए थे . कोरोना काल में खाने की कमी से शायद वे भी परेशान थे . 02876 आनंदविहार – पुरी कोविड स्पेशल ट्रेन के लिए मुझे ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ा . लेकिन यह क्या जैसे ही ट्रेन प्लेटफार्म पर प्लेस लेने लगी, पूरे स्टेशन की बिजली गुल हो गई . अपनी – अपनी सीट तक पहुंचने के लिए यात्री बदहवास इधर – उधर भागने लगे . डिब्बे में पहुंच कर सबसे पहले मैने पानी चेक किया जो सही – सलामत मिला . लेकिन बेसिन में उफनता पानी देख मायूसी हुई .

आस – पास का जायजा लेने पर तकरीबन सारे बेसिन इसी हालत में मिले . किसी – किसी में टूटी बोतलें पड़ी थी . ऐसे में एक और तकलीफदेह यात्रा का मुझे अंदाजा हो गया . ट्रेन का रूपांतरण एल एच बी कोच में हो जाने से सारी सुविधाएं अत्याधुनिक थी , लेकिन टॉयलट के भीतर कोई भी फ्लश काम नहीं कर रहा था . इस बीच ट्रेन भदोही में काफी देर रुकी रही तो मेरा माथा ठनका . पता लगा ट्रेन करीब आधे घंटे बिफोर है . यात्रियों का कहना था कि 77 फीसद ट्रेनें चल ही नहीं रही हैं , इसी से गाड़ियों को लाइन क्लियर मिल रहा है . टूटे फ्लश और उफनते बेसिन के मद्देनजर मुझे लगा शायद किसी बड़े स्टेशन पर इसका संग्यान लिया जाएगा , आखिर कोरोना काल जो है .

लेकिन मंजिल पर पहुंचने तक समस्या जस की तस कायम रही . हिजली पहुंचने में ट्रेन को करीब एक घंटे का विलंब हो गया . उस पर आउटर पर ट्रेन करीब 25 मिनट प्लेटफॉर्म खाली होने का इंतजार ही करती रही . डिब्बों में यात्री और बाहर राहगीर अकुलाते रहे . मुझे लगा कि समस्या ज्यों की त्यों ही रहनी थी तो फिर ट्रेनों का ठहराव खड़गपुर ही क्या बुरा था . बहरहाल ट्रेन हिजली पहुंची और मैं यही सोचता हुआ डिब्बे से उतर कर घर की ओर चल पड़ा …!!

Spread the love

Related Posts

  1. Hey! Someone in my Facebook group shared this website with us so I came to
    look it over. I’m definitely loving the information. I’m book-marking and will be tweeting this
    to my followers! Fantastic blog and brilliant style and design.

  2. Do you mind if I quote a few of your articles as long as I provide credit
    and sources back to your weblog? My blog site
    is in the exact same area of interest as yours and my visitors would
    truly benefit from a lot of the information you
    present here. Please let me know if this
    alright with you. Appreciate it!

  3. I have to thank you for the efforts you’ve put in writing this website.
    I am hoping to view the same high-grade blog posts by
    you in the future as well. In truth, your creative writing abilities has
    inspired me to get my very own site now 😉

  4. My programmer is trying to persuade me to move to .net from PHP.
    I have always disliked the idea because of the expenses.
    But he’s tryiong none the less. I’ve been using Movable-type on several websites for about a year
    and am nervous about switching to another platform.

    I have heard good things about blogengine.net.
    Is there a way I can import all my wordpress posts into
    it? Any help would be greatly appreciated!

  5. I have been exploring for a little bit for any high-quality articles or weblog posts
    on this sort of space . Exploring in Yahoo I finally stumbled upon this site.
    Studying this info So i’m satisfied to express that I have
    an incredibly good uncanny feeling I found out just what I
    needed. I so much without a doubt will make certain to don?t
    omit this site and give it a glance regularly.
    ps4 https://j.mp/3z5HwTp ps4 games

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *