Connect with us

Hi, what are you looking for?

Rail Hunt

रेलवे जोन / बोर्ड

South Eastern Railway : चक्रधरपुर व रांची डिवीजनल मीट में सांसद गीता कोड़ा ने जीएम को सुनायी खरी-खरी, कहा – कोल्हान से भेदभाव नहीं चलेगा

रेलवे के डिवीजनल मीट में शामिल अधिकारी व सांसद

JAMSHEDPUR. सिंहभूम की सांसद (MP) गीता  कोड़ा ने जमशेदपुर के होटल वेव इंटरनेशनल में आयोजित रेलवे की डिवीजनल मीट में South Eastern Railway की जीएम अर्चना जोशी को खरी-खरी सुनवाई. सांसद गीता कोड़ा ने कोल्हान में यात्री सुविधाओं को लेकर रेल प्रशासन का सीधे-सीधे  कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि वह गरीब इलाके से आती हैं. वहां से रेलवे सिर्फ मालगाड़ी से ढुलाई करता है. यात्रियों की सुविधा पर रेलवे यहां ध्यान नहीं दे रहा है. रेलवे की यह मनमानी नहीं चलेगी. गीता कोड़ा यहीं तक नहीं रुकी, उन्होंने चेतावनी वाले लहने में कहा कि अगर रेलवे का यह रवैया रहा तो वह आंदोलन से भी पीछे नहीं हटेंगी.

डिवीजनल मीट में शामिल जीएम अर्चना जोसी, डीआरएम वीके साहू, प्रदीप कुमार आदि.

South Eastern Railway के रांची व चक्रधरपुर डिवीजनल मीट में सांसद गीता कोड़ा की टिप्पणी से जीएम अर्चना जोशी समेत आला रेलवे अधिकारी सकते में नजर आये. हालांकि जमशेदपुर के सांसद विद्युत वरण महतो ने स्थिति को संभाला और तब रेलवे जीएम अर्चना जोशी ने उनकी मांगों पर सार्थक तरीके से विचार करने और यथासंभव कार्रवाई करने की बात कही. गीता कोड़ा ने कोरोना की तरह पश्चिम सिंहभूम में ट्रेनों का परिचालन शुरू करने और पूर्व की तरह ट्रेनों के ठहराव देने की बात कही. सांसद कोड़ा ने यात्रियों की मांग के अनुसार ट्रेनों का परिचालन करने और कोटा निर्धारित करने की बात कही.

मीटिंग से पहले जीएम अर्चना जोशी ने अब तक संचालित योजनाओं की जानकारी सांसदों को दी. उन्होंने जोन की उपलब्धियों को भी सांसदों के सामने रखा और स्टेशनों व यात्री सुविधा की दिशा में कराये जा रहे कार्यों की जानकारी दी. हालांकि रेलवे की इस बैठक में अधिकांश सांसद नहीं आये. 22 में सिर्फ 11 सांसदों ने बैठक में उपस्थित दर्ज करायी. इसमें झारखंड और ओडिशा के सांसद शामिल थे. रेलवे द्वारा बुलायी जाने वाली डिवीजनल बैठक को जनप्रतिनिधि कोरम मानते हैं. उनका मानना होता है कि ऐसी बैठकों में कुछ अहम निर्णय निकलकर नहीं सामने आते. अलबत्ता रेलवे प्रशासन उनकी मांगों को उचित फोरम पर उठाने की बात कहकर पल्ला झाड़ लेता है. ऐसे में इन बैठकों से अधिक कुछ नहीं निकलने वाला, बल्कि यह तामझाम रेलवे के ही कई मायनों में लाभकारी होता है.

रेलवे द्वारा बुलायी जाने वाली डिवीजनल बैठक को जनप्रतिनिधि कोरम मानते हैं. उनका मानना होता है कि ऐसी बैठकों में कुछ अहम निर्णय निकलकर नहीं सामने आते. अलबत्ता रेलवे प्रशासन उनकी मांगों को उचित फोरम पर उठाने की बात कहकर पल्ला झाड़ लेता है.

डिवीजनल मीट में शामिल जमशेदपुर के सांसद विद्युत वरण महतो ने गोविंदपुर और बारीगोड़ा में ओवरब्रिज, टाटा-भागलपुर के बीच सीधी ट्रेन सेवा, टाटा- एलेप्पी को फिर से शुरू करने, टाटा से बक्सर तक सीधी ट्रेन चलाने, बादाम पहाड़ से बांसपानी तक नयी रेल लाइन का सर्वे कराने, संतरागाछी से अजमेर साप्ताहिक ट्रेन का जयपुर तक विस्तार करने, कांड्रा-नामकुम लाइन का काम पूरा करने, टाटा-यशवंतपुर को सप्ताह में तीन दिन चलाने, पुरी-जयनगर ट्रेन को वाया टाटानगर चलाने, शालीमार-गोरखपुर का फेरा बढ़ाने का प्रस्ताव रखा.

रांची-चक्रधरपुर डिवीजनल मीट में सांसद व रेलवे अधिकारी

वहीं रांची के सांसद संजय सेठ ने मुरी-बरकाकाना, मुरी-चांडिल, रांची-लोहरदगा लाइन का दोहरीकरण करने, रांची-टाटा के बीच ऐसा मार्न बनाने ताकि समय कम हो सके, पिस्का स्टेशन को अपग्रेड करने, राउरकेला-जयनगर और एल्लेपी में कोटा बढ़ाने, रांची-दिल्ली राजधानी में तेजस का रैक लगाने और रांची से वंदे भारत ट्रेनों का परिचालन शुरू करने का प्रस्ताव दिया. उन्होंने रांची में पर्यटन की संभवनाओं को देखते हुए उचित उपाय करने का अनुरोध भी रेलवे से किया. इसके अलावा हटिया-हावड़ा क्रिया योगा एक्सप्रेस, छपरा-टाटानगर, रांची-हावड़ा, आसनसोल-टाटानगर, नयी दिल्ली-पुरी और दक्षिण बिहार एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव चांडिल स्टेशन पर देने की मांग की.

राज्यसभा सांसद समीर उरांव ने कहा कि आजादी के बाद भी अब तक गुमला में रेलवे लाइन नहीं पहुंच पायी है. रेलवे वहां तक रेल लाइन पहुंचाये औश्पर रांची से सूरत के बीच सीधी ट्रेन सेवा शुरू करे. वहीं चतरा के सांसद सुनील सिंह ने गढ़वा, पलामू, लातेहार तक रेलवे लाइन को दुरुस्त करने, ट्रेनों का फेरा बढ़ाने, गोड्डा से राजमहल को रांची से जोड़ने, रांची से सभी ट्रेनों को चतरा के आसपास के जिलों से संपर्क बनाने का सुझाव दिया. बैठक में ओडिशा के सांसदों ने राउरकेला, झारसुगुड़ा, राजगांगपुर समेत दूसरे स्टेशन पर यात्री सुविधा बढ़ाने और नयी ट्रेनों का परिचालन शुरू करने की मांग की. बैठक में ओडिशा के सांसद ज्योतिमय सिंह, सांसद नितेश गंगा देब, चंद्राणी मुर्मू, ममता मोहंता, राज्यसभा सांसद महुआ माझी, धीरज प्रसाद साहू, दीपक प्रकाश, समीर उरांव, आदित्य प्रसाद आदि शामिल थे. वहीं रेल प्रशासन की ओर से जीएम अर्चना जोसी, डीआरएम चक्रधरपुर विजय कुमार साहु, रांची डीआरएम प्रदीप कुमार गुप्ता समेत विभागीय प्रमुख शामिल हुए.

# jamshedpur-common-man-issues # news # state # Jamshedpur News # Indian Railway # south eastern railway # Zonal meeting # east singhbhum # jharkhand news # News # National News # Jharkhand news # ser gm #railway quarter # obc railway karmachari sangh

Spread the love

Latest

You May Also Like

न्यूज हंट

PRAYAGRAJ : उत्तर मध्य रेलवे के प्रयागराज मंडल में ट्रेन में पेंट्रीकार मैनेजर से 20 हजार रुपये घूस मांगने का वीडियो वायरल किया गया है....

मीडिया

MUMBAI : मुंबई से बड़ी दुखदायी खबर आ रही है. सोशल मीडिया में चल रही सूचनाओं के अनुसार वेस्टर्न रेलवे में चर्च गेट के...

रेलवे यूनियन

CHAKRADHARPUR : चक्रधरपुर रेलमंडल को लोडिंग में अव्वल बनाने वाले रेलकर्मियों को न बेहतर आवास की सुविधा मिल रही है न ही उन्हें स्वास्थ्य...

मीडिया

आगरा कैंट इंस्पेक्टर, सब इंस्पेक्टर समेत चार निलंबित AGRA : अवैध वसूली के मामलों में कार्रवाई नहीं होने के कारण आरपीएफ के अधिकारी व...