Connect with us

Hi, what are you looking for?

Rail Hunt

देश-दुनिया

कोरोना पर वार : 39 हजार स्टेशन स्टेशन मास्टर पीएम फंड में देंगे 21 करोड़ रुपए, गार्ड देंगे 65 करोड़

  • ऑल इंडिया रेलवे स्टेशन मास्टर एसोसिएशन की केंद्रीय कार्यकारिणी ने बोर्ड चेयरमैन को भेजा पत्र
  • आइसमा फॉर मास्टर और मास्टर फॉर नेशन के सिद्धांत को जमीन पर उतरेंगे स्टेशन मास्टर
  • रेलवे के 32 हजार गार्ड चार दिन का वेतन 65 करोड़ देने की घोषणा कर चुके हैं 

रेलहंट ब्यूरो, नई दिल्ली

कोरोना की संक्रमण को लेकर देशव्यापी लॉकडाउन और आपात तैयारियों के बीच ऑल इंडिया रेलवे स्टेशन मास्टर एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री राहत कोष में तीन माह तक एक-एक दिन का वेतन देने की घोषणा की है. आइसमा की केंद्रीय कार्यकारिणी ने कोरोना से लड़ने के लिए रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव को 27 मार्च को भेजे अपने पत्र में यह विश्वास दिलाया है कि देशव्यापी आपातकाल के इस समय देश भर के स्टेशन मास्टर देश के साथ खड़े हैं और वित्तमंत्री की 26 मार्च की घोषणा को देखते हुए तीन माह तक राष्ट्रीय कोष में अपना अंशदान सुनिश्चित करायेंगे. इस मद में लगभग 21 करोड़ की राशि स्टेशन मास्टर प्रधानमंत्री कोष में जमा करायेंगे. इससे पूर्व रेलमंत्री पीयूष गोयल राष्ट्रीय आपदा की स्थिति में भी ट्रेन चलाने के लिए स्टेशन मास्टरों का हौसला बढ़ा चुके हैं. इससे पूर्व ऑल इंडिया गार्ड काउंसिल के जनरल सेक्रेटी एसके सिंह ने आपदा की इस घड़ी में दो माह में चार दिन का वेतन पीएम राहत कोष में देने की घोषणा करते हुए सभी जोन व ब्रांच को सूचित कर चुके हैं. रेलवे के कुल 32 हजार गार्ह को मिलाकर यह राशि लगभग 65 करोड़ रुपये तक पहुंच जायेगी.

स्टेशन मास्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष ने क्या कहा, जानिये 

रेलवे बोर्ड चेयरमैन को भेजे पत्र में स्टेशन मास्टर एसोसिएशन के सेक्रेटरी जनरल सुनील कुमार ने बताया है कि पूरा विश्व कोरोना महामारी से जूझ रहा है. इससे निबटने लिए देश के प्रधानमंत्री ने लॉकडाउन की घोषणा की है. इस संकट की घड़ी में सभी स्टेशन मास्टर साथी लगातार 24 घंटे स्टेशन पर रह कर मालगाड़ियों का संचालन सुनिश्चित करा रहे हैं. ताकि अति आवश्यक सामग्री का वितरण निर्बाध गति से होता रहे.

वहीं, पश्चिम मध्य रेलवे स्टेशन मास्टर एसोसिएशन के जोनल अध्यक्ष हेमराज मीणा ने बताया कि देशभर में 39000 स्टेशन मास्टर कार्यरत हैं. पश्चिम मध्य रेलवे में 17100 जबकि कोटा मंडल में 500 स्टेशन मास्टर सेवारत हैं. सभी ने एक स्वर में राष्ट्रीय आपदा के समय तीन माह तक एक-एक दिन का वेतन प्रधानमंत्री सहायता कोष में देने में सहमति जतायी है.

कोरोना संक्रमण के देश व्यापी संकट के बीच देश के एक हिस्से से दूसरे हिस्से में जरूरी खाद्य व दूसरी सामग्री पहुंचाने का काम मिशन मोड में चल रहा है. स्टेशन मास्टर आइस्मा के स्लोगन ”आइस्मा फॉर मास्टर और मास्टर फॉर नेशन” को सफल बनाने में जुटे हुए है. इसके लिए कंधे से कंधा मिलाकर सभी साथी सहयोग दे रहें.

अविनाश कुमार, सचिव, आइसमा

दूसरी ओर दक्षिण पूर्व रेलवे के जोनल महासचिव दिलीप कुमार, संयुक्त सचिव पीके झा एंड चक्रधरपुर मंडल सचिव अविनाश कुमार ने संयुक्त बयान जारी कर बताया है कि कोविड-19 रूपी महामारी के कारण देश ही नहीं विश्व की अर्थव्यवस्था संकट के मोड़ पर खड़ी है. इस आपात स्थिति में स्टेशन मास्टर साथियों ने संकट से उबरने में राष्ट्र का कंधे से कंधे मिला कर साथ दिया है. ऐसे में 21 करोड़ छोटी सी रकम जरूर है लेकिन यह राष्ट्र के काम आयेगा. एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने आने वाले समय में कंधे से कंधा मिलाकर सहयोग करने का भी आह्वान किया है.

यह भी पढ़ें : स्टेशन मास्टरों को मिलेगा 5400 का वेतनमान, निर्णय 2018 से हुआ लागू, राजपत्रित बनाने का मिलेगा मौका

चक्रधरपुर मंडल के जोनल सचिव अविनाश कुमार ने जारी बयान में बताया कि देश के संकट के काल में हमेशा स्टेशन मास्टरों ने पहल की है. ऐसे समय में जब कोरोना का संक्रमण देशव्यापी चिंता का कारण बना हुआ है स्टेशन मास्टर अपनी जान जोखिम में डालकर मालगाड़ियों की आवाजाही सुनिश्चित कराने में जुटे हुए है ताकि देश के एक हिस्से से दूसरे हिस्से में जरूरी खाद्य व दूसरी सामग्री पहुंचायी जा सके. यह काम मिशन मोड में चल रहा है. इस तरह स्टेशन मास्टर आइस्मा के स्लोगन आइस्मा फॉर मास्टर और मास्टर फॉर नेशन को सफल बनाने में जुटे हुए है. उधर दूसरी ओर भारतीय रेलवे के गार्ड जो एक ओर खाने पीने के सामान व बिजली आपूर्ति हेतु कोयला व अन्य जरूरी सामान पहुँचाने के दिन रात रेलवे के साथ काम कर रहे है, मेल व पैसेंजर ट्रेन न चलने के कारण मेल व पैसेंजर के गार्ड भी मालगाड़ी कार्य कर रहे है व आइसोलेशन वार्ड तैयार करने हेतु खाली कोचों को निर्धारित जगह भी पहुंचा रहे है. इस तरह लगातार काम करके देशसेवा करते हुए उन्होंने देश भक्ति की एक मिसाल और कायम की है. भारतीय रेलवे के समस्त गार्डों के तय किया है कि वह वेतन से 2 दिन का वेतन लगातार 2 माह तक देश हित में देते रहेंगे. रेलवे में कुल 32000 गार्ड है. ऑल इंडिया गार्डस काउंसिल के जनरल सेक्रेटरी एसपी सिंह जी ने इसकी सूचना सभी रेलवे अधिकारियों को दे दी है व कहा है कि हम तन मन धन से देश व रेल के प्रति समर्पित है व इस कठिन घड़ी में देश वासियों से घरों में ही रहने की अपील भी की है.

यह भी पढ़ें : स्टेशन मास्टरों का डिमांड डे शुरू, आधी रात से प्रोटेस्ट बैच लगाकर जतायी एकजुटता

 आधारित समाचार में किसी सूचना अथवा टिप्पणी का स्वागत है, आप हमें मेल railnewshunt@gmail.com या वाट्सएप 6202266708 पर अपनी प्रतिक्रिया भेज सकते हैं.

Spread the love

Latest

You May Also Like

रेलवे यूनियन

इंडियन रेलवे सिग्नल एंड टेलीकॉम मैन्टेनर्स यूनियन ने तेज किया अभियान, रेलवे बोर्ड में पदाधिकारियों से की चर्चा  नई दिल्ली. सिग्नल और दूरसंचार विभाग के...

रेलवे यूनियन

नडियाद में IRSTMU और AIRF के संयुक्त अधिवेशन में सिग्नल एवं दूर संचार कर्मचारियों के हितों पर हुआ मंथन IRSTMU ने कर्मचारियों की कठिन...

न्यूज हंट

राउरकेला से टाटा तक अवैध गतिविधियों पर सीआईबी इंस्पेक्टरों का मौन सिस्टम के लिए घातक   सब इंस्पेक्टर को एडहक इंस्पेक्टर बनाकर एक साल से...

रेलवे जोन / बोर्ड

ECR CFTM संजय कुमार की छह लाख रुपये घूस लेने के क्रम में हुई थी गिरफ्तारी जांच के क्रम में  SrDOM समस्तीपुर व सोनपुर को...