Connect with us

Hi, what are you looking for?

Rail Hunt

देश-दुनिया

21 सितंबर से चलेंगी क्लोन ट्रेनें, 20 जोड़ी ट्रेनों को चलाने की सूची जारी

  • 19 क्लोन ट्रेनों में हमसफर एक्सप्रेस का लगेगा किराया, लखनऊ-नई दिल्ली में जनशताब्दी का देना होगा किराया

नई दिल्ली. कोरोना के संक्रमण को लेकर रेलवे ने सामान्य ट्रेनों को परिचालन बंद रखा है. इसके बीच वर्तमान में चल रही स्पेशल ट्रेनों की तर्ज पर व्यस्त मार्गों पर क्लोन ट्रेनों को चलाने की घोषणा कर दी गयी है. रेलवे ने जारी सूचना में 20 क्लोन ट्रेनें चलाने की घोषणा की है. ये ट्रेनें 21 सितंबर से चलायी जायेंगी. इसके लिए मार्ग भी निर्धारित कर दिये गये है. रेलवे द्वारा जारी की गयी सूची के अनुसार 19 क्लोन ट्रेनों का परिचालन में हमसफर के रैक का इस्तेमाल किया जायेगा. सभी ट्रेनें 18 बोगियों की होंगी. जबकि लखनऊ से नई दिल्ली के बीच चलने वाली क्लोन ट्रेन 22 कोच की होगी.

यह भी पढ़ें : एक बार फिर से ‘क्लोन ट्रेनें’ चलाने की तैयारी, वेटिंग लिस्ट वालों को मिलेगी राहत

सभी क्लोन ट्रेनों का किराया हमसफर की तर्ज पर निर्धारित होगा जबकि लखनऊ से नई दिल्ली के बीच चलने वाली टे्न का किराया जनशताब्दी की तर्ज पर वसूला जायेगा. इसके अलावा जोनल रेलवे को अपनी सुविधा के अनुसार वर्तमान शिड्यूल में परिवर्तन करने की छूट दी गयी है. रेलवे की ओर से बताया गया है कि इसके अलावा स्पेशल और श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन जारी रहेगा. रेलवे ने यह भी स्पष्ट किया है कि ट्रेनों का ठहराव राज्य सरकार की अनुशंसा पर होगा.

यह बताते चले कि रेलवे ने व्यस्त मार्ग पर चल रही विशेष ट्रेनों में डिमांड के बाद भी आरक्षण उपलब्ध नहीं कराने के बाद उसके ठीक पीछे क्लोन ट्रेन चलाने की योजना बनायी है ताकि जिन लोगों को विशेष ट्रेन में जगह नहीं मिल सके वह इस ट्रेन का उपयोग कर तेजी से अपने गंतव्य तक  पहुंचे सकेंगे. ये ट्रेनें उन रूटों पर चलायी जा रही है कि जहां यात्रियों का भार ज्यादा हैं.

इन ट्रेनों का ठहराव सीमित स्टेशनों पर होगा. ऐसा इसलिए ताकी यात्रियों को उनके गंतव्य तक तेजी से पहुंचाया जा सके. क्लोन ट्रेनों में 3 श्रेणी के AC कोच को प्राथमिकता दी जाएगी. मौजूदा विशेष मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों की तुलना में इन क्लोन ट्रेन की स्पीड ज्यादा होगी. हालांकि अभी रेलवे की विस्तृत योजना का खुलासा नहीं हो सका है.

मौजूदा चलायी जा रही विशेष ट्रेनों में अगर वेटिंग लिस्ट बहुत ज्यादा हो जाएंगी तो वैसी हालत में उसके लिए एक और ट्रेन की व्यवस्था की जाएगी. इस ट्रेन का नंबर भी वही होगा और वह मुख्‍य ट्रेन के प्रस्थान के एक घंटे बाद चलेगी. क्लोन ट्रेनें भी उसी रूट पर और उसी प्‍लेटफॉर्म से जाएंगी. इससे उन यात्रियों को फायदा मिलेगा, जिनके पास वेटिंग टिकट होंगे. वैसे यात्री लगभग उसी समय पर बिना किसी परेशानी के अपने गंतव्य तक पहुंच जाएंगे.

चलायी जाने वाली ट्रेनों की सूची 

 

Spread the love

Latest

You May Also Like

रेलवे यूनियन

इंडियन रेलवे सिग्नल एंड टेलीकॉम मैन्टेनर्स यूनियन ने तेज किया अभियान, रेलवे बोर्ड में पदाधिकारियों से की चर्चा  नई दिल्ली. सिग्नल और दूरसंचार विभाग के...

रेलवे यूनियन

नडियाद में IRSTMU और AIRF के संयुक्त अधिवेशन में सिग्नल एवं दूर संचार कर्मचारियों के हितों पर हुआ मंथन IRSTMU ने कर्मचारियों की कठिन...

रेलवे यूनियन

IRSTMU – AIRF  के संयुक्त अधिवेशन में WREU के महासचिव ने पुरानी पेंशन योजना लागू करने की वकालत की  नडियाद के सभागार में पांचवी...

न्यूज हंट

KOTA. मोबाइल के उपयोग को संरक्षा के लिए बड़ा खतरा मान रहे रेल प्रशासन लगातार रनिंग कर्मचारियों पर सख्ती बरतने लगा है. रेल प्रशासन...