Connect with us

Hi, what are you looking for?

Rail Hunt

देश-दुनिया

टाटानगर : यूनियनों का विरोध दरकिनार, एपीओ का चाप्टर क्लोज, 23 में 18 कर्मचारियों का तबादला

  • रेलवे मेंस यूनियन ने ओबीसी व एएलआरएसए के साथ मिलकर बनायी विरोध की रणनीति
  • यूनियनों में बिखराव का फायदा उठाकर प्रबंधन ने टाटा के छह हजार रेलकर्मियों की परेशानी से मुंह मोड़ा

जमशेदपुर से धमेंद्र. चक्रधरपुर मंडल रेल प्रबंधन ने कुछ दिन की चुप्पी के बाद अपनी कार्य योजना को अंजाम देते हुए टाटानगर एपीओ कार्यालय को क्लोज डाउन करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. मंडल रेल प्रशासन ने तत्काल आदेश जारी कर एपीओ कार्यालय में तैनात कुल 23 में से 18 कर्मचारियों को तबादला कर दिया है. फौरी तौर पर पांच कर्मचारियों को यहां बनाये रखा गया है. एपीओ कार्यालय के 18 कर्मचारियों का तबादला सीनी व चक्रधरपुर किया गया है. हालांकि रेलवे मेंस यूनियन ने आनन-फानन में बैठक बुलाकर ओबीसी व एएलआरएसए संगठनों के साथ प्रबंधक के इस फैसले का विरोध करने का एलान किया है. 29 अगस्त को एपीओ कार्यालय पर अपराहन 3.30 बजे यूनियन नेता अपना विरोध दर्ज करायेंगे.

दरअसल, रेलमंडल में यूनियनों में आपसी मनमुटाव व बिखराव का फायदा उठाते हुए प्रबंधन ने एपीओ कार्यालय को धीरे-धीरे क्लोज करने की प्रक्रिया शुरू की है. टाटानगर से एपीओ कार्यालय हटाने का निर्णय पुराना है. पूर्व में रेलवे मेंस कांग्रेस, रेलवे मेंस यूनियन समेत अन्य संगठनों ने इसका यह कहकर विरोध जताया था कि प्रबंधन के इस निर्णय से टाटा समेत ब्रांच लाइन स्टेशनों छह हजार से अधिक रेलकर्मी प्रभावित होंगे. इसके बाद रेल प्रबंधन ने अपनी योजना को फिलहाल ठंडे बस्ते में डाल दिया था. एक बार फिर यूनियनों में आपसी ताना-तानी का फायदा उठाते हुए प्रबंधन ने एपीओ कार्यालय को क्लोज करने की गुप्त रणनीति का खुलासा कर दिया है.

टाटानगर में एपीओ कार्यालय 1986 में खोला गया था. मेंस यूनियन कार्यालय मे 28 अगस्त को आयोजित बैठक में ओबीसी एसोसिएशन और ऑल इंडिया लोको रनिंग स्टाफ एसोसिएशन ने इस निर्णय का विरोध करने की रणनीति बनायी. इसके तहत 29 अगस्त को 3.30 बजे एपीओ कार्यालय पर यूनियन के नेता व कार्यकर्ता विरोध दर्ज करायेंगे. विरोध को सफल बनाने के लिए कर्मचारियों से संपर्क अभियान भी तेज करने की बात कही गयी है.

मेस यूनियन के केंद्रीय जोनल उपाध्यक्ष शिवाजी शर्मा ने रेल प्रशासन के इरादों को सफल नहीं होने देने की बात कही है. मंडल संयोजक जवाहरलाल ने कहा कि अगर कर्मचारियों का सहयोग मिला तो प्रबंधन के इस निर्णय का कड़ा विरोध किया जायेगा. इसके अलावा ओबीसी के सागर प्रसाद और एएलआरएसए के पारस कुमार ने भी विरोध में कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा रहने की बात कही है.

खबर में किसी तथ्य, सूचना अथवा टिप्पणी का स्वागत है, आप हमें 6202266708 नंबर वाट्सअप पर अपनी बात भेज सकते हैं. 

 

Spread the love

Latest

You May Also Like

रेलवे न्यूज

AHMEDABAD : अहमदाबाद मंडल रेल प्रबंधक तरुण जैन साहब ने अधिकारियों की पूरी टीम के साथ शनिवार  05.11.2022 की सुबह वटवा लॉबी – यार्ड...

रेलवे यूनियन

इंडियन रेलवे एस एंड टी मैंटेनर्स यूनियन (IRSTMU) ने बतायी बड़ी उपलब्धि नई दिल्ली. टेलीकॉम विभाग में 13.10.2022 से यार्ड स्टिक सिस्टम लागू हो...

न्यूज हंट

इंडियन रेलवे एस एडं टी मैंटेनरर्स यूनियन (IRSTMU) के राष्ट्रीय संरक्षा अधिवेशन में संरक्षा बिंदुओं पर हुआ मंथन सिग्नल एवं दूरसंचार कर्मचारियों की कठिन...

रेलवे यूनियन

SABNARMATI : वेस्टर्न रेलवे एम्प्लॉयज यूनियन की साबरमती शाखा 07 अक्टूबर 2022 को रेल कर्मचारियों की 31 सूत्री मांगों को लेकर की साबरमती रेलवे...