Connect with us

Hi, what are you looking for?

Rail Hunt

रेलवे न्यूज

चक्रधरपुर सीनियर डीसीएम ने पांच कंपनियों को दिया पानी बेचने का टेंडर, स्टेशनों से ‘रेलनीर’ गायब !

चक्रधरपुर सीनियर डीसीएम ने पांच कंपनियों को दिया पानी बेचने का टेंडर, स्टेशनों से 'रेलनीर' गायब !
  • बिना निविदा मंगाये चुनिंदा कंपनियों को उपकृत करने का लग रहा अधिकारियों पर आरोप  
  • उपभाेक्ता संगठन ने विजिलेंस जांच के लिए भेजा पत्र, नियमों की अनदेखी की शिकायत 

Jamshedpur. चक्रधरपुर रेलमंडल के बड़े स्टेशनों से अचानक से रेलनीर गायब हो गया है. टाटानगर, राउरकेला, झारसुगुड़ा से लेकर चक्रधरपुर मंडल मुख्यालय के स्टेशन पर भी धड़ल्ले से लोकल ब्रांड का पानी बेचा जा रहा है. आपूर्तिकर्ता तो वहीं हैं लेकिन ब्रांड बदल गया है. गर्मियों में पानी की डिमांड और मोटी कमाई को लेकर लोकल ब्रांड का पानी बेचने की बैचेनी वेंडरों में रहती है. चूंकि रेलनीर में मुनाफा कम होता है लिहाजा येन-केन प्रकरेण गर्मी में रेलनीर की किल्लत बताकर लोकल ब्रांड के पानी की इंट्री स्टेशन में करा दी जाती है.

इस बार भी ऐसा ही हुआ है. जिम्मेदार इंस्पेक्टरों की मौन सहमति के बीच यात्रियों को रेलनीर से वंचित कर दिया जा रहा है. हर साल चक्रधरपुर डिवीजन के बड़े स्टेशनों में शामिल झारसुगुड़ा, राउरकेला, चक्रधरपुर, टाटानगर में अघोषित रूप से एक या दो ब्रांड के पानी को प्रमोट करने के लिए रेलनील की आपूर्ति शॉट कर दी जाती है अथवा सीमित कर दिया जाता है. इस साल भी ऐसा ही किया गया है. आईआरसीटीसी के अधिकारी भी इसे लेकर मौन रहते है. आला अधिकारियों को बताया जाता है कि रेलनीर उपलब्ध नहीं होने के कारण यात्रियों को स्वीकृत ब्रांड का स्वीकृत पानी उपलब्ध कराया जा रहा है.

… तो क्या सीनियर डीसीएम कार्यालय ने कर दिया बड़ा खेल  

चक्रधरपुर डिवीजन ने 06.03.2023 को जारी एक पत्र में रेलनीर की आपूर्ति कम होने पर पांच ब्रांड का पानी स्टेशन पर बेचने की स्वीकृति दी गयी है. यह स्वीकृति पत्र पूर्व सीनियर डीसीएम मनीष कुमार पाठक के हस्ताक्षर से जारी है. ट्रवीट कर यह बात रेल प्रशासन के संज्ञान में लायी गयी है. इसमें यह सवाल उठाया गया है कि क्या बिना किसी निविदा आमंत्रित किये ही चुनिंदा लोगों को नियमों से हटकर यह स्वीकृति दे दी गयी है? इसके लिए रेलवे को मिलने वाली अग्रिम धनराशि भी नहीं जमा करायी गयी न ही रेलनीर के शार्टेज का कोई प्रमाणपत्र लिया गया. तो क्या एडमिनिस्ट्रेटिव इंटरेस्ट और पावर का बेजा इस्तेमाल कर यह स्वीकृति पूर्व सीनियर डीसीएम द्वारा दी गयी है ?

चक्रधरपुर सीनियर डीसीएम ने पांच कंपनियों को दिया पानी बेचने का टेंडर, स्टेशनों से 'रेलनीर' गायब !

मनीष कुमार पाठक, पूर्व सीनियर डीसीएम, सीकेपी

चक्रधरपुर सीनियर डीसीएम ने पांच कंपनियों को दिया पानी बेचने का टेंडर, स्टेशनों से 'रेलनीर' गायब !

गजराज सिंह, सीनियर डीसीएम, सीकेपी

पूर्व सीनियर डीसीएम के एडमिनिस्ट्रेटिव पावर के बेजा इस्तेमाल पर बीते दो माह पूर्व जोनल विजिलेंस ने नजरें तरेरी थी तब कंट्रोल आर्डर पर व रुटीन तबादलों को लेकर कुछ संशोधन आदेश आनन-फानन में जारी किये गये. जो उनके तबादले के बाद ठंडे बस्ते में चले गये लगते हैं. इधर, पांच कंपनियों को बोतल बंद पानी की आपूर्ति करने की स्वीकृति आदेश को लेकर उठाये गये सवाल पर अब तक रेलवे की ओर से कोई अधिकारिक टिप्पणी नहीं आयी है. अब इस मामले का सच रेलवे विजिलेंस और वर्तमान सीनियर डीसीएम गजराज सिंह चरण काे सामने लाना है. उधर, कंज्यूमर्स प्रोटेक्शन काउंसिल के रविकुमार ने रेलवे विजिलेंस को पत्र भेजकर इस मामले की जांच कराने की बात कही है.

मुनाफे के खेल में सारे कानून तक पर, अवैध रूप से लाया जा रहा पानी

उल्लेखनीय है कि निजी फर्मों द्वारा बोतल बंद पीने का पानी (पैकेज्ड ड्रिंकिंग वाटर) 4 रुपये से 6 रुपये अथवा ज्यादा से ज्यादा 6.50 रुपये प्रति बोतल के हिसाब से आपूर्ति किया जाता है, जो कि प्लेटफार्मों पर स्थित अचल खानपान इकाईयों (स्टालों) और चलती गाड़ियों की पैंट्रीकारों को सीधे उपलब्ध कराया जाता है. चूंकि आईआरसीटीसी द्वारा ‘रेलनीर’ की आपूर्ति लगभग 10.50 रुपये से 11 रुपये प्रति बोतल के हिसाब से स्टालों और पैंट्रीकारों को की जाती है, अतः रेलनीर बेचने में उन्हें कम मुनाफा मिलता है, जबकि निजी फर्मों द्वारा आपूर्ति किया जाने वाला पानी बेचने पर उन्हें प्रति बोतल डेढ़ गुना से भी ज्यादा मुनाफा मिलता है. यही कारण है कि गर्मी के शुरू होते ही पानी की आपूर्ति करने वाली सभी एजेंसियों किसी न किसी रूप में रेल नीर की आपूर्ति को प्रभावित करने का प्रयास करती है. आपसी मिलीभगत से चुनिंदा ब्रांड के बोतलबंद पानी की आपूर्ति शुरू कर इस काली कमाई में सभी मिलकर हाथ धोने में जुट जाते हैं.

Spread the love

Latest

You May Also Like

न्यूज हंट

आरती ने रात ढाई बजे ‘ पुरुष लोको पायलट से की थी बात’ फिर लगा ली फांसी : परिजनों का आरोप  रतलाम में पदस्थापित...

न्यूज हंट

रेल परिचालन के GR नियमों की अलग-अलग व्याख्या कर रहे रेल अधिकारी, AILRSA ने जतायी आपत्ति GR 3.45 और G&SR के नियमों को दरकिनार कर...

न्यूज हंट

AGRA. उत्तर मध्य रेलवे के आगरा रेलमंडल में दो मुख्य लोको निरीक्षकों ( Transfer of two CLIs of Agra) को तत्काल प्रभाव से तबादला...

न्यूज हंट

डीआरएम ने एलआईसी के ग्रुप टर्म इंश्योरेंस प्लान को दी स्वीकृति, 10 मई 2024 करना होगा आवेदन  रेलकर्मी की मौत के 10 दिनों के...