Connect with us

Hi, what are you looking for?

Rail Hunt

खुला मंच

खड़गपुर-हल्दिया सेक्शन पर 12 साल में लोकल ट्रेन नहीं बढ़ायी गयी, निकाली पदयात्रा

खड़गपुर-हल्दिया सेक्शन पर 12 साल में लोकल ट्रेन नहीं बढ़ायी गयी, निकाली पदयात्रा
Demand to increase passenger trains

KHARAGPUR : पांशकुड़ा – हल्दिया दीघा साउथ ईस्टर्न रेलवे पेसेजंर्स वेलफेयर एसोसिएशन ने खड़गपुर हल्दिया सेक्शन में लोकल ट्रेनों की संख्या बढ़ाने की मांग की है. इस मांग को लेकर तमलुक में पदयात्रा और प्रदर्शन का आयोजन किया गया.

संगठन के नेताओं ने कहा कि दक्षिण पूर्व रेलवे के खड़गपुर मंडल के हल्दिया खंड लंबे समय से उपेक्षा और अभाव से पीड़ित हैं. चार लंबे वर्षों से, हमारे संघ ने बार-बार विभिन्न मुद्दे उठाए हैं और कुछ नई मांगें उठाई हैं. न तो आज तक समस्या का समाधान हुआ और न ही संबंधित मांगों को पूरा करने की कोई इच्छा दिखायी गयी. कालिकाखाली डोरो कृष्णानगर और नीलकुंठिया तीन हॉल्ट स्टेशनों को 10 फरवरी 2014 को मंजूरी दी गई थी लेकिन इन स्टेशनों का निर्माण कार्य अभी तक शुरू नहीं हुआ है. परिणामस्वरूप उस क्षेत्र के आम लोग रेल सेवा नहीं ले पाते हैं.

इन तीन हॉट स्टेशनों का निर्माण कार्य तुरंत शुरू होना चाहिए और 2024 तक पूरा होना चाहिए. 12 वर्षों से हल्दिया सेक्शन पर कोई लोकल ट्रेन नहीं बढ़ाई गई है. हल्दिया अंतरराष्ट्रीय स्तर का औद्योगिक शहर है लेकिन हल्दिया में केवल चार जोड़ी लोकल ट्रेनें चलती हैं. एक स्थान से दूसरे स्थान तक का समय अंतराल चार घंटे है. इसलिए हमारी मांग है कि हल्दिया से पांशकुड़ा तक एक अतिरिक्त लोकल ट्रेन सुबह और एक दोपहर में चलाई जाए.

इसके अलावा हल्दिया से खड़गपुर या मेदिनीपुर तक एक जोड़ी लोकल ट्रेन चलायी जानी चाहिए. आठ महीनों से अधिक समय से, दक्षिण पूर्व रेलवे के विभिन्न खंडों में लोकल ट्रेनें और एक्सप्रेस ट्रेनें समय सारिणी के अनुसार नहीं चल रही हैं, जिससे यात्रियों को भारी असुविधा हो रही है और कई यात्रियों को वित्तीय नुकसान हो रहा है. इसलिए हम इन ट्रेनों को समय सारिणी के अनुरूप बनाने के लिए तत्काल व्यवस्था की मांग करते हैं.

स्थानीय लोगों की मांग के अनुसार हल्दिया सेक्शन में तमलुक और केशबपुर स्टेशनों के बीच कंचनपुर हॉल्ट स्टेशन का निर्माण किया जाना चाहिए. स्थानीय लोग 12 साल से अधिक समय से आवेदन कर रहे हैं. सभी बिना सुरक्षा वाले लेवल क्रॉसिंगों को रोड ओवरब्रिज या रोड अंडर ब्रिज या अंडरपास या लो व्हाइट सबवे के माध्यम से आम जनता के लिए तुरंत सुरक्षित किया जाना चाहिए .

इन समपारों को मानव यातायात के लिए उपयुक्त बनाया जाना चाहिए क्योंकि इन सड़कों के अलावा क्षेत्र के लोगों के लिए कोई वैकल्पिक सड़कें नहीं हैं. इसे ध्यान में रखना चाहिए. सेक्शन के केशबपुर, महिषादल, बरदा, बसुलिया सुताहाटा, दुर्गाचक और हल्दिया स्टेशनों की सड़कें जर्जर हैं, यात्री यात्रा नहीं कर पाते हैं, जिसके कारण स्टेशनों पर यात्रियों की संख्या बहुत कम है. अधिकांश सड़कों पर स्ट्रीट लाइटें नहीं हैं और यात्रियों को रात में डर के साये में यात्रा करनी पड़ती है.

Spread the love
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest

You May Also Like

रेलवे यूनियन

IRSTMU अध्यक्ष ने PCSTE श्री शांतिराम को दी जन्मदिन बधाई व नव वर्ष की शुभकामनाएं  IRSTMU के राष्ट्रीय अध्यक्ष नवीन कुमार की अगुवाई में...

न्यूज हंट

MUMBAI. रेलवे में सेफ्टी को लेकर जारी जद्दोजहद के बीच मुंबई मंडल (WR) के भायंदर स्टेशन पर 22 जनवरी 2024 की रात 20:55 बजे...

मीडिया

RRB Bharti New. रेलवे भर्ती बोर्ड (RRB) एएलपी के लिए 5 हजार से ज्यादा पदों पर भर्तियां लेने जा रहा है. भर्ती में पदों की...

न्यूज हंट

KHARAGPUR . DRM KHARAGPUR, Shri K.R. Chaudhary today inspected the Betnoti and Balasore station in the Kharagpur- Bhadrak section. MP, Balasore, Shri Pratap Chandra Sarangi...