ताजा खबरें न्यूज हंट रेलवे यूनियन

नाईट ड्यूटी फेलियर गैंग तथा ट्रैक मशीन कार्य गैंग के लिए सभी जोनों को दिशा-निर्देश जारी

  • इंडियन रेलवे एस एडं टी मैंटेनरर्स यूनियन के प्रयासों को मिल रही सफलता : आलोक चंद्र प्रकाश

रेलहंट ब्यूरो, नई दिल्ली

वर्ष 2016 में रजिस्टरेशन के बाद से ही सिगनल और टेलीकाम विभाग के कर्मचारियों की समस्याओं को मजबूती से रेलवे के उच्च अधिकारियों तक पहुंचाने के दिशा में किये गये प्रयास अब फलीभूत होने लगे हैं. रेलवे बोर्ड ने सभी जोनों को दिशा-निर्देश जारी करते हुए सिगनल और टेलीकाम विभाग में नाईट ड्यूटी फेलियर गैंग की स्थापना तथा मंडल स्तर पर ट्रैक मशीन कार्यों के लिए अलग से गैंग की स्थापना के आदेश जारी किए हैं. इसके अलावा HOER के उल्लंघन को रोकने के लिए सभी मंडलों में तुरन्त ही HOER के अनुसार ड्यूटी रोस्टर लागू करने के सख्त निर्देश दिये हैं. इंडियन रेलवे एस एडं टी मैंटेनरर्स यूनियन के राष्ट्रीय महामंत्री आलोकचंद्र प्रकाश, अध्यक्ष नवीन कुमार, राष्ट्रीय सहसचिव रेवती रमण ने इसके लिए रेल मंत्री से लेकर प्रधानमंत्री, लोकसभा से लेकर राज्यसभा तक अपनी बात पहुंचायी थी. परिणामस्वरूप आज सिगनल और टेलीकाम विभाग की एक अलग पहचान बनी. यूनियन नेताओं के सामूहित प्रयास का नतीजा रहा कि अब उपलब्धियां इंडियन रेलवे एस एडं टी मैंटेनरर्स यूनियन के खाते में आने लगी है. यूनियन के महामंत्री आलोक चंद्र प्रकाश ने इसके लिए पूरी टीम की सामूहिक एकता को इसका श्रेय दिया है.

वर्ष 2019 के अंत में इंडियन रेलवे एस एडं टी मैंटेनरर्स यूनियन ने प्रधानमंत्री को दिनांक 23.12.2019 को एक पत्र लिख कर उनसे मिलने का समय मांगा था. फलस्वरूप 29 दिसम्बर, 2019 को रेलवे बोर्ड ने सभी जोनों तथा मंडलों के फील्ड कर्मचारियों के साथ ओपन हाउस डिस्कशन करने के आदेश जारी किए तथा सभी जोनों में ओपन हाउस डिस्कशन सफलता पूर्वक किया तथा हर जोन तथा मंडल में HOER के उल्लंघन का मुद्दा सर्वोपरि रहा तथा नाईट ड्यूटी फेलियर गैंग की स्थापना के अलावा ट्रैक मशीन के कार्यों के लिए मंडल स्तर पर अलग से गैंग बनाने की माँग मुख्य रूप से की गई. इस पर कार्यवाही करते हुए रेलवे बोर्ड ने सख्त दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं. इंडियन रेलवे एस एडं टी मैंटेनरर्स यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नवीन कुमार ने रेल हंट से बातचीत में बताया कि इस आदेश को सभी जोनों तथा मंडलों में लागू करवाने के लिए इंडियन रेलवे एस एडं टी मैंटेनरर्स यूनियन हर संभव प्रयास करेगी. उन्होंने स्पष्ट किया की इंडियन रेलवे एस एडं टी मैंटेनरर्स यूनियन के अलावा सिगनल और टेलीकाम विभाग के कर्मचारियों की वास्तविक समस्याओं का समाधान केवल और केवल आई आर एस टी एम यू ही कर सकती है. इसके अलावा रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष विनोद कुमार यादव ने खुद इंडियन रेलवे एस एडं टी मैंटेनरर्स यूनियन के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के लिए दिल्ली बुलाया तथा . इस मिटिंग में मुख्य रूप से सिगनल और टेलीकाम विभाग के कर्मचारियों रिस्क तथा हार्डशिप अलाउंस, पैनल ऑपरेशन सिगनल विभाग को दिये जाने के लिए पर गहन चर्चा हुई. कैडर मर्जर से विभागवाद को समाप्त करने में सहायता मिलेगी.

Spread the love

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *