ताजा खबरें न्यूज हंट मीडिया रेल मंडल

झारखंड सरकार अनुमति दे तो हम रेगुलर ट्रेन चलाने को तैयार : डीआरएम

  • चक्रधरपुर रेलमंडल में ट्रेनों की रफ्तार को 130 किमी तब बढ़ी, इसे 160 किमी करेंगे
  • मंडल रेल प्रबंधक विजय कुमार गुप्ता ने मीडिया के सामने पेश की भावी योजनाएं

जमशेदपुर. चक्रधरपुर मंडल रेल प्रबंधक विजय कुमार साहू गुरुवार 8 अक्टूबर को मीडिया से रू-ब-रू हुए. डीआरएम ने ऑनलाइन पत्रकारों को रेलमंडल की उपलब्धियों की जानकारी दी तो भविष्य की योजनओं से भी अवगत कराया. कोरोना काल में बंद ट्रेनों को चलाने के प्रस्ताव पर डीआरएम ने स्पष्ट कहा कि रेलवे रेगुलर ट्रेनों को चलाने को तैयार है बस राज्य सरकार की अनुमति का इंतजार है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि पूजा को देखते हुए जल्द ही स्पेशल ट्रेनों की घोषणा की जायेगी.

रेलमंडल की उपलब्धियों पर विजय कुमार साहू ने बताया कि यात्री ट्रेनों के बंद होने के बाद रेल मंडल ने आवश्यक वस्तुओं मसलन खाद्यान्न के बाद कोयला और लौह अयस्क की ढुलाई तेज रही और हर दिन लगभग 141 मालगाड़ियों की लोडिंग की गयी. आलम रहा है कि वर्ष 2020-21 के (अप्रैल से सितंबर) छमाही में चक्रधरपुर रेल मंडल ने बुनियादी ढांचे में विकास के साथ ही 23 फीसदी अधिक माल लदान करने का रिकॉर्ड भी बनाया है जो आम दिनों में एक साल में भी संभव नहीं होता.

यह भी पढ़ें : तकनीकी रूप से रेलकर्मी बने स्मार्ट, तनावमुक्त होकर करें डयूटी : डीआरएम

डीआरएम ने इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी बातों को रखा. बताया कि लॉकडाउन में ट्रैक मेंटेनेंस का कार्य तेजी और आसानी से किया गया क्योंकि इस दौरान यात्री ट्रेनों का परिचालन बंद रहने से ब्लॉक लेने की नौबत नहीं आयी. उन्होंने बताया कि ट्रैक मेंटेनेंस काम मैन्यूअल से अधिक मेकेनाइज्ड किया जा रहा है. बताया कि टाटा-राउरकेला व झारसुगड़ा समेत 8 स्थानों पर हमने ट्रेनों की गति 130 किमी प्रति घंटे कर दी है और अक्तूबर के अंतिम सप्ताह से यात्री ट्रेनें और तेज गति से दौड़ेगी. उन्होंने एक साल के अंतराल में 160 किमी प्रति घंटे तक रफ्तार बढ़ाने की बात कही.

तकनीकी का हवाला देते हुए डीआरएम ने कहा अब  मालगाड़ी वैगनों में ओवर लोडिंग की जांच वाइल्ड वे-ब्रिज से रखी जायेगी. डीआरएम ने झारसुगड़ा गुड्स यार्ड व झारसुगड़ा-बामड़ा में थर्ड लाइन को जल्द शुरू करने की बात कही. डीआरएम ने कहा कि राजस्व के लिहाजा से टाटा- बादामपहाड़ सेक्शन को भी तैयार किया जा रहा है और विद्युतीकरण कार्य पूरा होते ही कुलडीहा, रायरंगपुर से फूल रैक की लोडिंग शुरू हो जायेगी जबकि हल्दीपोखर में गुड्स शेड फिर से चालू किया जायेगा. उन्होंने सेक्शन पर रेलवे स्टेशनों के विकास की भी बात कही. .

डीआरएम ने बताया कि चांडिल से टाटानगर के बीच ट्रेनों को आने में एक से डेढ़ घंटे का समय लग जाया करता था लेकिन अब इस मार्ग पर ट्रेनें 35 से 45 मिनट में पहुंच जायेंगी. उन्होंने बताया कि मार्ग पर आने वाले कई क्रॉसिंग को बंद कर दिया गया है जबकि कुछ पर अंडरपास भी बनाये जा रहे ताकि ट्रेनों की रफ्तार को बढ़ाया जा सके.

डीआरएम विजय कुमार साहू ने टाटानगर के सहयोगी स्टेशन के रूप में चिह्नित आदित्यपुर के विकास की योजनाओं का भी खुलासा किया. कहा कि यहां नया गुड्स शेड बनाया जायेगा, उन्होंने कहा कि आदित्यपुर स्टेशन को गुड्स का कारोबार बढाने के लिहाज से तैयार किया जा रहा है. उनके अनुसार यहां आदित्यपुर, गम्हरिया, कांड्रा के आस-पास के कारोबारियों, कंपनियों को समान मंगाने व भेजने की सुविधा रेलवे देगी. इस मौके पर सीनियर डीसीएम मनीष पाठक भी मौजूद थे.

#railwayboard #indianrailways #railminindi #piyushgoyal #railwayminister #crb

Spread the love

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *