ताजा खबरें रेल मंडल

गम्हरिया : स्टेशन मास्टर व बैकिंग चालक में मारपीट, तोड़फोड़

  • एसएम को पीठ में और चालक को अंगुली में लगी चोट, दोनों पक्ष कार्रवाई पर अड़े
  • शिकायत पर सीनियर डीओएम ने किया बुकअप, आज सुना जायेगा पक्ष
  • चालक के समर्थन में आये यूनियन नेता, आइसमा का रूख अब तक साफ नहीं

जमशेदपुर से धमेंद्र. दक्षिण पूर्व रेलवे के चक्रधरपुर मंडल अंतर्गत गम्हरिया स्टेशन पर बुधवार 22 अगस्त की सुबह 4.30 बजे स्टेशन मास्टर पतंजलि कुमार व ट्रेन चालक संजय कुमार आपस में भिड़ गये. दोनों के बीच विवाद डयूटी को लेकर मेमो देने और उसे इनकार करने से लेकर शुरू हुआ जो दुर्व्यवहार पर जाकर टकराव में बदल गया. आरोप है कि पतंजलि के दुर्व्यवहार पूर्व उकसावे के बाद चालक संजय कुमार आरआरआई केबिन में चले गये और आन डयूटी स्टेशन मास्टर से भिड़ गये. मारपीट के क्रम में आरआरआई का टेलीफोन टूट गया जबकि दोनों को चोट आयी है.

स्टेशन मास्टर पतंजलि कुमार को पीठ में जबकि चालक संजय कुमार को अंगुली में चोट आयी है. कहा जा रहा है कि स्टेशन मास्टर द्वारा स्केल से संजय पर वार किया गया जो बचाव के बाद अंगुली में लग गया और अंगुली चोटिल हो गयी. उधर संजय कुमार द्वारा “की” चलाकर मारने से स्टेशन मास्टर को पीठ में चोट आयी है. स्टेशन मास्टर और चालक द्वारा घटना की सूचना वरीय अधिकारियों के दिये जाने के साथ ही मेडिकल भी कराया गया है.

रेल प्रशासन ने घटना को गंभीरता से लेते हुए स्टेशन मास्टर व चालक को बुकअप किया है. इधर घटना के बाद चालक के समर्थन में जहां रेलवे मेंस कांग्रेस, मेंस यूनियन और लोको रनिंग एसोसिएशन सामने आया है वहीं अब तक स्टेशन मास्टरों के संगठन आइसमा ने अब तक घटना को लेकर अपना रूख स्पष्ट नहीं किया है. स्टेशन मास्टर और चालक के बीच मारपीट की घटना को लेकर बुधवार को चक्रधरपुर मंडल मुख्यालय में भी चर्चाओं का बाजार गर्म रहा. एक दिन पूर्व ही आजाद हिंद एक्सप्रेस के चालक द्वारा सिग्नल तोड़ने और तीन रेलकर्मियों के निलंबित की कार्रवाई के बीच मारपीट की घटना को लेकर अधिकारी सकते में है. आन डयूटी रेलकर्मियों के व्यवहार में उग्रता पदाधिकारियों के लिए चिंता का कारण बनने लगी है.

स्टेशन मास्टर और चालक के बीच विवाद डयूटी को लेकर शुरू हुआ. संजय कुमार सीनी के बैंकिंग पावर लेकर लगभग 12.30 बजे आये गम्हरिया आरआरआइ पहुंचे और वहां पावर खड़ा करने की जगह स्टार्टर तक चले गये. इसके बाद स्टेशन मास्टर से मेमो देकर उन्हें वापस बुलाया. प्रोग्राम का इंतजार कर रहे संजय कुमार को स्टेशन मास्टर पतंजति ने वरीय अधिकारियों के आदेश पर मेमो देकर साइडिंग में खाली बैगन को आदित्यपुर तक ले जाने को कहा. बैंकिंग इंजन के चालक संजय कुमार ने विपरीत रुट बताकर इससे इंकार किया. विवाद के बीच सुबह के 4.30 बजे गये. चालकों का कहना है कि स्टेशन मास्टर के उकसावे पूर्व व्यवहार पर आक्रोशित संजय कुमार आरआरआइ में चढ़ गये और पतांजलि से उलझ गये. दोनों के बीच मारपीट हो गयी और दोनों ने एक-दूसरे पर हमला बोल दिया. इस बीच रिलिवर आ जाने से चालक संजय कुमार ने डयूटी ऑफ किया और वापस लौट गये. बाद में यह सूचना आयी कि संजय कुमार मारपीट में खुद को चोटिल बताते हुए अस्पताल में भर्ती हो गये है. इधर घटना के बाद पतंजलि कुमार ने भी वरीय अधिकारियों को सूचना देने के बाद खुद को जख्मी बताते हुए अस्पताल पहुंच गये.

स्टेशन मास्टर पर कार्रवाई की मांग, संयुक्त अपील

इधर, घटना के बाद चालक के समर्थन में कई यूनियनों के नेता संगठित हो गये और टाटानगर एआरएम को संयुक्त अपील देने पहुंचे. हालांकि बकरीद के अवकाश के कारण इनकी एआरएम से मुलाकात नहीं हो सकी. अब संयुक्त अपील गुरुवार की सुबह क्षेत्रीय प्रबंधक को दी जायेगी. एआरएम कार्यालय पहुंचने वाले नेताओं में रेलवे मेंस कांग्रेस के आरके पांडे, मेंस यूनियन के एक सिंह व एमके सिंह, ओबीसी के आरबी राय, लोको रनिंग स्टॉफ एसोसिएशन के जे मंडल और एम रजक शामिल है.

चालक पर कार्रवाई के लिए एकजुट

घटना के बाद गम्हरिया स्टेशन पर तैनात इंजीनियरिंग और एसएनएटी के कर्मचारियों ने चालक को दोषी बताया. घटना की निंदा करते हुए इन कर्मचारियों ने इंजन छोड़कर स्टेशन मास्टर के केबिन में घुसकर मारपीट करने के लिए चालक संजय कुमार के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

Spread the love

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *