Connect with us

Hi, what are you looking for?

Rail Hunt

देश-दुनिया

रेलवे यूनियनों की मान्यता के लिए अगस्त में होंगे चुनाव, बोर्ड ने जारी किया आदेश

  • मान्यता प्राप्त दोनेां फेडरेशन के अलावा कई यूनियन मान्यता के लिए कर सकती है दावा
  • 35 प्रतिशत वोटिंग के नियमों में बदलाव की चर्चा, पर अब तक नया आदेश नहीं
  • चुनाव से दो माह पूर्व आचार संहिता लागू होने के कारण दोनों फेडरेशनों की मान्यता खत्म हो जाएगी

रेलहंट ब्यूरो, नई दिल्ली

रेलवे में यूनियनों की मान्यता के लिए प्रस्तावित चुनावों की घोषणा बोर्ड ने कर दी है. शुक्रवार 31 मई को जारी आदेश में सभी जोनों समेत मेट्रो रेलवे में सेक्रेड बैलेट चुनाव कराने का आदेश जारी किया गया है. चुनाव की तिथियों की घोषणा रेलवे बोर्ड बाद में जारी करेगा. रेलवे बोर्ड ने चुनाव को लेकर सभी जोनों को अपने-अपने स्तर पर तैयारी करने का निर्देश दिया है. चुनाव के सूचना जारी होने के साथ ही यूनियनों में मान्यता के लिए कर्मचारियों के बीच अपनी पहुंच बढ़ाने की कवायद तेज हो गयी है.

रेलवे में यूनियन की मान्यता के लिए पहली बार चुनाव मई 2007 में कराये गये थे. इसमें एआईआरएफ (ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन) की नार्दन रेलवे मेंस यूनियन नियम अनुसार 35 फीसदी वोट लेकर सत्ता में आई थी. जबकि एनएफआईआर (नेशनल फेडरेशन ऑफ इंडियन रेलवे) की उत्तरी रेलवे मजदूर यूनियन बड़े मार्जन से निश्चित फीसदी वोट पूरा ना होने के कारण सत्ता से बाहर हो गई थी. परंतु 2013 में दोनों यूनियनों को 35 फीसदी वोट हासिल होने के कारण मान्यता मिल गयी. रेलवे में एआईआरएफ को 17 जोनों में से 14 जोनों में विजय मिली थी. जबकि एनएफआईआर को 17 में से सिर्फ 10 जोन में ही जीत हासिल हुई थी. अब दोनों फेडरेशन से जुड़ी यूनियनें फिर से अपनी मान्यता को लेकर चुनाव मैदान में उतरेंगी. चुनाव की घोषणा होने के दो माह पूर्व दोनों फेडरेशनों की मान्यता खत्म हो जाएगी. ऐसा दो माह पूर्व आचार संहिता लग जाने के कारण होगा.

आचार संहिता लागू होने से पूर्व ही अलग-अलग जोन में दोनों फेडरेशन से जुड़ी यूनियनें कर्मचारियों के बीच अपनी पहुंच बढ़ाने के लिए जनसंपर्क अभियान तेज कर चुकी है. किसी भी जोन में कर्मचारियों की कुल संख्या के 35 प्रतिशत वोट पाने पर यूनियन को ही जोन में मान्यता देने का प्रावधान है. इस बार चुनाव में एआईआरएफ (ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन) और एनएफआईआर (नेशनल फेडरेशन ऑफ इंडियन रेलवे) के अलावा अन्य यूनियनें भी उतरने को ताल ठोंक रही है. इस कारण रेलकर्मियों को जहां एक ओर अपनी मनपसंद यूनियन चुनने का मौका होगा वहीं दूसरी ओर दोनों मान्यता प्राप्त फेडरेशन के लिए अपना दुर्ग बचा पाने की कठित चुनौती भी होंगी.

इसके अलावा देश भर में विभागवार कई यूनियनों ने अपने-अपने स्तर पर कर्मचारियों को संगठित करना शुरू कर दिया है. हर यूनियन अपनी-अपनी मान्यता के लिए चुनाव लड़ने की तैयारी में है. इन यूनियनों में एआईआरएफ और एनएफआईआर के प्रति अपने-अपने विभागों की समस्याओं को बेहतर तरीके से रेल प्रशासन के समक्ष नहीं उठा पाने के लिए नाराजगी है. इसमें रेलवे ट्रैकमेन यूनियन, एसएंडटी यूनियन समेत कई अन्य यूनियनें शामिल है.

Spread the love

Latest

You May Also Like

न्यूज हंट

PRAYAGRAJ : उत्तर मध्य रेलवे के प्रयागराज मंडल में ट्रेन में पेंट्रीकार मैनेजर से 20 हजार रुपये घूस मांगने का वीडियो वायरल किया गया है....

मीडिया

MUMBAI : मुंबई से बड़ी दुखदायी खबर आ रही है. सोशल मीडिया में चल रही सूचनाओं के अनुसार वेस्टर्न रेलवे में चर्च गेट के...

रेलवे यूनियन

CHAKRADHARPUR : चक्रधरपुर रेलमंडल को लोडिंग में अव्वल बनाने वाले रेलकर्मियों को न बेहतर आवास की सुविधा मिल रही है न ही उन्हें स्वास्थ्य...

मीडिया

आगरा कैंट इंस्पेक्टर, सब इंस्पेक्टर समेत चार निलंबित AGRA : अवैध वसूली के मामलों में कार्रवाई नहीं होने के कारण आरपीएफ के अधिकारी व...