ताजा खबरें न्यूज हंट मीडिया

दिल्ली- वाराणसी मार्ग पर बुलेट ट्रेन के लिए आज से हाेगा हवाई सर्वे

दिल्ली-वाराणसी हाई स्पीड रेल कॉरिडोर की जमीनी पैमाइश हेलीकॉप्टर से कराई जाएगी. इस सर्वे को रक्षा मंत्रालय से हरी झंडी मिल चुकी है. नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (एनएचएसआरसीएल) 13 दिसंबर से हवाई जमीनी सर्वे में लाइट डिटेक्शन एंड रेंजिंग सर्वे (लिडार) तकनीक से कराया जाएगा. यह बुलेट ट्रेन के ट्रैक के लिए होगा. ट्रैक का अधिकतर हिस्सा एलीवेटेड या अंडरग्राउंड ट्रैक का होगा. कॉरिडोर की कनेक्टिविटी कानपुर और लखनऊ शहरों से होगी. इसका मतलब शहरी भी इस ट्रैक पर चलने वाली बुलेट ट्रेनों के सफर का लुत्फ भविष्य में उठा सकेंगे.

तीन साल पहले रेल प्रशासन ने दिल्ली से वाराणसी 800 किमी की दूरी के लिए बुलेट ट्रेन चलाने का फैसला लिया था. रेलवे परंपरागत तरीके से सर्वे कराता तो इसमें सवा से डेढ़ साल का समय लगता पर लिडार तकनीक से हवाई सर्वे में बमुश्किल 12-15 सप्ताह ही लगेंगे. दिल्ली वाराणसी हाईस्पीड रेल कॉरिडोर की डिटेल प्रोजक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार करने के लिए हेलीकॉप्टर पर लेजर सक्षम उपकरणों का उपयोग किया गया है. एक तरह से सर्वे की यह आधुनिक तकनीक है.

रेलवे अफसरों का तर्क है कि किसी ट्रैक को बिछाने में होने वाले जमीनी सर्वेक्षण महत्वबपूर्ण कड़ी होती है. इस सर्वे में आसपास इलाकों की सटीक जानकारी मिलती है. सटीक जानकारी के लिए ही लेजर डाटा, जीपीएस डाटा, फ्लाइट पैरामीटर और वास्तविक तस्वीरों का उपयोग होता है. इस रिपोर्ट के आधार पर ही प्रोजेक्ट की डिजाइन तैयार होती है. रेलवे अधिकारी ने बताया कि हवाई सर्वे में घनी आबादी वाले शहरी और ग्रामीण इलाके, राजमार्ग, सड़क, घाट, नदियां, हरे-भरे खेत और जंगल बाधक नहीं बनते हैं. परंपरागत सर्वे में ये सभी चीजें बाधक रहती है.

दिल्ली से वाराणसी के बीच कराया जाने वाला हवाई सर्वे बुलेट ट्रेन के लिए है. इस हाई स्पीड रेल कॉरिडोर से तब दिल्ली से वाराणसी लगभग 800 किमी. का सफर बमुश्किल में 3 घंटे का होगा. भारतीय रेल में लिडार तकनीक का पहली बार इस्तेमाल इसकी सटीकता की वजह से मुंबई-अहमदाबाद हाई-स्पीड रेल कॉरिडोर में किया गया था. इस तकनीक के सर्वे में बमुश्किल 12 सप्ताह का समय लगा, जबकि इस ट्रैक का पारंपरिक तरीकों से सर्वे किया जाता तो सवा साल का समय लगता. अब इस तकनीक का उपयोग दिल्ली-वाराणसी हाईस्पीड रेल कॉरिडोर के सर्वे में किया जा रहा है. इसका प्राथमिक हवाई सर्वे हो भी चुका है.

सभार : हिन्दुस्तान

Spread the love

Related Posts

  1. I think this is among the most vital info for me.
    And i’m glad reading your article. But want to remark
    on some general things, The website style is perfect, the articles is really nice : D.
    Good job, cheers

  2. I would like to thank you for the efforts you have put in writing this website.
    I really hope to view the same high-grade blog
    posts by you later on as well. In truth, your
    creative writing abilities has encouraged me to get my own,
    personal blog now 😉

  3. My spouse and I stumbled over here different web page and thought I should check things out.

    I like what I see so i am just following you. Look forward
    to exploring your web page for a second time.

  4. Hi! I could have sworn I’ve visited this website before but after going through a few of the articles I
    realized it’s new to me. Anyhow, I’m certainly happy I found it and I’ll be
    book-marking it and checking back frequently!

  5. Yesterday, while I was at work, my sister stole my iPad and tested to see if
    it can survive a 30 foot drop, just so she can be a youtube sensation.
    My apple ipad is now broken and she has 83 views. I know this
    is entirely off topic but I had to share it with someone!

    quest bars http://j.mp/3jZgEA2 quest bars

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *