ताजा खबरें न्यूज हंट पैसेंजर फोरम रेलवे यूनियन

इंडियन रेलवे एम्प्लाईज फेडरेशन 25 मई को देश भर में करेगा प्रदर्शन, 26 को ब्लैक-डे

  • IREF की वर्चुअल कोर कमेटी की मीटिंग में संघर्ष के लिए बनाई गई रणनीति
  • सभी रेलकर्मियों को कोरोना वारियर्स घोषित कर 50 लाख का बीमा करे सरकार- सर्वजीत सिंह
  • कृषि व देश विरोधी तीनों कानून तुरंत रद्द कर MSP पर कानून बनाए मोदी सरकार – IREF

नई दिल्ली. इंडियन रेलवे एम्प्लाईज फेडरेशन ने 26 मई को रेलवे में ब्लैक-डे (काला दिवस) का आह्वान किया है. 24 मई को बुलायी गयी वर्चुअल मीटिंग में यह निर्णय लिया गया. फेडरेशन के महामंत्री का. सर्वजीत सिंह ने प्रेस को बयान जारी कर कहा है कि इंडियन रेलवे एम्प्लाईज ने केंद्र सरकार/ रेल प्रशासन के उदासीन रवैये के चलते एक पत्र रेल मंत्री व रेलवे बोर्ड चैयरमैन को भेज कर रेल कर्मचारियों को कोरोना योद्धा घोषित करने सहित अन्य मांगों से रूबरू कराया था, लेकिन रेलवे बोर्ड के उदासीन रवैये के कारण हमने संघर्ष करने का निर्णय लिया और चेतावनी जारी की है.

उन्होंने कहाकि स्टेशन पर यात्री का सबसे पहले सामना करने वाले टिकट बुकिंग क्लर्क, टिकट जांच कर्मियों से लेकर ट्रेनों और स्टेशनों की व्यवस्था संभालने वाले स्टेशन मैनेजर, ट्रैकमैन, ड्राइवर/गॉर्ड, गैंगमैन, नए डिब्बों व इंजनों के निर्माण व रखरखाव में लगे कर्मचारियों ने कोविड-19 की महामारी के दौरान दिन-रात जान जोखिम में डालकर फ्रंट लाइन वर्कर के रूप में रेलवे का संचालन व रखरखाव बनाये रखा. इस दौरान लगभग दौ हजार रेल कर्मचारी जान गवा चुके हैं. जब पूरा देश थम गया था तब इन्हीं रेलकर्मियों ने देश के कोने-कोने तक ऑक्सीजन, अनाज, दवाइयां और ऊर्जा संबंधित जरूरी सामान पहुंचाया. बावजूद उनकी अनदेखी हो रही है. फेडरेशन (IREF) की वर्चुअल कोर कमेटी की मीटिंग में शामिल हुए पदाधिकारियों ने केंद्र सरकार/रेल प्रशासन के प्रति अपना रोष व्यक्त किया.

सर्वजीत सिंह ने कहा कि सभी रेल कर्मचारियों को कोरोना योद्धा घोषित करने, सभी रेल कर्मचारियों का 50 लाख रुपये का बीमा करने, मार्च 2020 के बाद मृतक रेल कर्मचारियों के परिवारों को 50 लाख रुपये एक्स – ग्रेसिया का भुगतान करने, NPS को तुरंत रद्द कर पुरानी पेंशन योजना बहाल करके PFRDA के पास जमा राशि कर्मचारी को वापिस करने, महंगाई भत्ते की बकाया सभी किस्तें जारी करने, रात्री ड्यूटी भत्ते पर रु . 43600 / – की लिमिट हटाने, भारतीय रेलवे का निजीकरण बंद करने आदि मांगो को लेकर समस्त रेलवे में 25 मई 2021 को राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन कर केंद्र सरकार / रेलवे प्रशासन को चेतावनी दी जाएगी.

इसके अलावा वर्चुअल कोर कमेटी की मीटिंग में 6 महीनों से दिल्ली के बॉर्डर पर तीन कृषि विरोधी कानूनों को रद्द करवाने व MSP पर कानून बनाने के लिए संघर्ष कर रहे अंदाताओ द्वारा 26 मई को ‘लोकतंत्र का काला दिवस’ का जोरदार तरीके से समर्थन करते हुए 26 मई 2021 को समस्त रेलवे में ब्लैक-डे (काला दिवस) मनाने की घोषना की गयी है.

Spread the love

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *