Connect with us

Hi, what are you looking for?

Rail Hunt

खुला मंच

अनिश्चितता की अंधेरी सुरंग में बंद है ताले की चाबी…ट्रेनें चलें तो पूरे हों कसमें-वादे…!!

अनिश्चितता की अंधेरी सुरंग में बंद है ताले की चाबी...ट्रेनें चलें तो पूरे हों कसमें-वादे...!!

तारकेश  कुमार ओझा

कितने लोग होंगे जो छोटे शहर से राजधानी के  बीच ट्रेन से डेली – पैसेंजरी करते हैं ? रेलगाडियों में हॉकरी करने वालों की  सटीक संख्या कितनी होगी ? आस – पास प्राइवेट नौकरी करने वाले उन लोगों का आंकड़ा क्या है , जो अपनी आजीविका के  लिए  पूरी तरह से रेलवे पर निर्भर हैं ? निश्चित रूप से इन सवालों के  सटीक जवाब शायद ही  किसी के  पास हो . लेकिन इन सवालों का  संबंध समाज के जिस सबसे निचले पायदान पर खड़े वर्ग से है , कोरोना काल में  उसकी मुश्किलों को बढ़ाने वाले सवाल लगातार  बढ़ रहे हैं .
अनिश्चितता की अंधेरी सुरंग में बंद है ताले की चाबी...ट्रेनें चलें तो पूरे हों कसमें-वादे...!!कोरोना के  खतरे , लॉक डाउन , अन लॉक और सोशल डिस्टेसिंग के  अपने तकाजे हो सकते हैं , लेकिन लगातार जाम होते ट्रेनों के  पहियों का  मसला केवल इस वर्ग की  पेट से ही नहीं जुड़ा है . जीवन के  कई अहम फैसले और ढेरों कसमें  – वादे भी इनकी जिंदगी की पटरी पर स्तब्ध खड़े रह कर सिग्नल हरी होने का  इंतजार कर रहे हैं . किसी को लगातार टल रही भांजी  की  शादी की चिंता है तो कोई बीमार चाचा के स्वास्थ्य को लेकर परेशान है . दुनिया की  तमाम दलीलें और किंतु – परंतु उनकी चाह और चिंता के सामने बेकार है , क्योंकि अनिश्चितता की अंधेरी सुरंग में बंद  उनकी बदकिस्मती के  ताले की  चाबी सिर्फ और सिर्फ रेलवे के  पास है .
एकमात्र ट्रेनों की  गड़गडा़हट ही इस वर्ग की  वीरान होती जिंदगी में  हलचल पैदा कर सकती है . रेलगाड़ियां आम भारतीय की  जिंदगी से किस गहरे तक जुड़ी है , इसका अहसास आज मुझे  रेलवे स्टेशन के  पास स्थित चाय की  गुमटी पर लगातार मोबाइल पर बतिया रहे नवयुवक की लंबी बातचीत से हुआ . युवक अपने किसी रिश्तेदार से अपना दर्द बयां कर रहा थ़ा ….कुछ ट्रेनें चली है ….लेकिन उसमें नीलांचल शामिल नहीं है …..इसके शुरू होते ही गांव आऊंगा ….लड़की देख कर रखना …. इस बार रिश्ता पक्का करके ही लौटूंगा …. !!
लेखक पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में रहते हैं और वरिष्ठ पत्रकार हैं
संपर्कः 9434453934, 9635221463

Spread the love
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest

You May Also Like

मीडिया

7वें वेतन आयोग के मुताबिक न्यूनतम वेतन 18000 के आधार पर बोनस 46 हजार रुपये तक हो सकता है  Railway Bonus : दुर्गा पूजा से...

न्यूज हंट

7वें वेतन आयोग के अनुसार बोनस की मांग कर रहे फेडरेशन नेता मायूस 78 दिन की सैलरी के बराबर मिलेगा बोनस, 11 लाख कर्मचारियों...

मीडिया

RANCHI. बरवाडीह-डालटनगंज मार्ग पर बरवाडीह रेलवे स्टेशन से ठीक पहले स्थित रेलवेफाटक ‘17-सी’ के सिग्नल पर पास मालगाड़ी लोको पायलट यह कहते हुए इंजन...

रेलवे यूनियन

एक्सप्रेस ट्रेन चलने से यात्रियों, रेलकर्मियों और व्यापारियों को होगा लाभ JAMSHEDPUR. ओबीसी रेलवे कर्मचारी संघ के टाटानगर शाखा सचिव मुद्रिका प्रसाद ने बयान...